Ministry of Human Resource Development, Government of India
 ईमेल हेल्पडेस्क : helpdesk-nat [at] gov [dot] in

शिक्षकों के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार निरूपण

शिक्षकों को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित करने का उद्देश्य देश के कुछ श्रेष्ठ शिक्षकों के अदिवतीय योगदान को पहचानना व सराहना है। यह पुरस्कार ऐसे होनहार तथा कर्त्तव्यनिष्ठ शिक्षकों के लिए एक प्रेरणास्त्रोत है जिन्होंने अपनी प्रतिबद्धता और परिश्रम के माध्यम से न केवल स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार किया है, बल्कि अपने छात्रों के जीवन को भी समृद्ध बनाया है।


 अनुदेश / उपयोगकर्ता पुस्तिका 
महत्वपूर्ण तिथियाँ

15 जून से 15 जुलाई 2020 तक

शिक्षकों द्वारा ऑनलाइन स्व-नामांकन आमंत्रित करने के लिए वेब-पोर्टल का उद्घाटन।

16 जुलाई से 23 जुलाई 2020 तक

जिला / क्षेत्रीय चयन समिति द्वारा शिक्षकों की शॉर्टलिस्टिंग और ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से राज्य / संगठन चयन समिति को शॉर्टलिस्ट करना।

24 जुलाई से 31 जुलाई 2020 तक

राज्य चयन समिति / संगठन चयन समिति को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से स्वतंत्र राष्ट्रीय जूरी में भेजा जाना है।

3 अगस्त 2020

वीसी या भौतिक बातचीत के माध्यम से जूरी द्वारा चयन के लिए सभी शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवारों को सूचित किया जा सकता है

6 अगस्त से 14 अगस्त 2020 तक

निर्णय के माध्यम से वीसी या शारीरिक बातचीत के माध्यम से जूरी द्वारा चयन प्रक्रिया

14 अगस्त 2020

स्वतंत्र राष्ट्रीय जूरी द्वारा नामों को अंतिम रूप देना

शिक्षक पुरस्कारों हेतु शिक्षकों की पात्रता की शर्तें
i) निम्नलिखित श्रेणियों के तहत मान्यता प्राप्त प्राथमिक/माध्‍यमिक/उच्च/उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में काम करने वाले स्कूल शिक्षक और स्कूलों के प्रमुख:
क) राज्य सरकार/संघ राज्‍यक्षेत्र प्रशासन द्वारा संचालित स्कूल, स्थानीय निकायों द्वारा संचालित स्कूल, राज्य सरकार/संघ राज्‍यक्षेत्र प्रशासन द्वारा सहायता प्राप्त स्कूल।
ख) केन्द्रीय सरकार के स्कूल अर्थात केंद्रीय विद्यालय (केवीएस), जवाहर नवोदय विद्यालय (जेएनवी), रक्षा मंत्रालय (एमओडी) द्वारा संचालित सैनिक स्‍कूल, परमाणु ऊर्जा शिक्षा सोसाइटी (एईईएस) द्वारा संचालित स्कूल।
ग) केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से संबद्ध स्कूल (उपर्युक्‍त (क) और (ख) के अलावा)।
घ) काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल्स सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) से संबद्ध स्कूल (उपर्युक्‍त (क), (ख) और (ग) के अलावा)।
ii) सामान्य रूप से, सेवानिवृत्त शिक्षक पुरस्कार के लिए पात्र नहीं होते हैं, लेकिन उन शिक्षकों पर विचार किया जा सकता है जिन्‍होंने कैलेंडर वर्ष के एक भाग (कम से कम चार महीने अर्थात 30 अप्रैल तक, जिस वर्ष से राष्ट्रीय पुरस्कार से संबंधित हैं) तक कार्य किया हो, यदि वे अन्य सभी शर्तों को पूरा करते हैं ।
iii) शैक्षिक प्रशासक, शिक्षा निरीक्षक, और प्रशिक्षण संस्‍थान के कर्मचारी इन पुरस्कारों के लिए पात्र नहीं हैं।
iv) शिक्षक/मुख्‍याध्‍यापक को ट्यूशनों में शामिल नहीं होना चाहिए।
v) केवल नियमित शिक्षक और विद्यालय प्रमुख ही पात्र होंगे।
vi) संविदा शिक्षक और शिक्षामित्र पात्र नहीं होंगे।
  
आवेदन और चयन की प्रक्रिया:
    i) सभी आवेदन एक ऑनलाइन वेब पोर्टल के माध्यम से प्राप्त किए । ii) मानव संसाधन विकास मंत्रलाय भी पोर्टल में डेटा प्रविष्टि के दौरान पोर्टल में समय पर प्रवेश और तकनीकी और परिचालन मुद्दों के समाधान के बारे में राज्यों/संघशासित प्रदेशों के साथ फिर से समन्वय होगा। iii) एमएचआरडी विकास और पोर्टल के लिए पूरा खर्च वहन करेगा । iv) राज्य/संघ राज्‍यक्षेत्रों के मामले में शिक्षक और विद्यालय प्रमुख स्वयं निर्धारित कट-ऑफ तारीख से पहले वेब पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन पत्र भरकर सीधे आवेदन करेंगे । v) प्रत्येक आवेदक प्रवेश पत्र के साथ ऑनलाइन, एक पोर्टफोलियो जमा करेगा । पोर्टफोलियो में सभी संबंधित सहायक सामग्री जैसे दस्तावेज़, उपकरण, गतिविधियों की रिपोर्ट, क्षेत्र का दौरा, तस्वीरें, ऑडियो या वीडियो आदि शामिल होंगे। vi) आवेदक द्वारा घोषणा: प्रत्येक आवेदक यह घोषणा पत्र देगा कि सभी दी गई जानकारी/डेटा उसकी/उसके ज्ञान के अनुसार सही है और अगर बाद की तारीख में कुछ भी असत्‍य पाया जाता है, तो उसके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है।
  
शिक्षकों के चयन हेतु मार्गदर्शन देने के लिए विभिन्‍न स्तर:
    शिक्षकों का मूल्यांकन मैट्रिक्स के आधार पर किया जाएगा । मूल्यांकन मैट्रिक्स में मूल्यांकन के लिए दो प्रकार के मानदंड हैं: क) उद्देश्य मानदंड: इसके तहत शिक्षकों को प्रत्येक वस्तुनिष्ठ मानदंड के विरुद्ध अंक प्रदान किए जाएंगे । इन मानदडों में 100 में से 20 को वेटेज दिया जाता है । ख) मानदंड प्रदर्शन के आधार पर : इसके तहत , शिक्षकों को प्रदर्शन के आधार पर मानदंडों पर अंक दिए जाएंगे अर्थात सीखने के परिणामों में सुधार करने के पहल, किए गए अभिनव प्रयोग, अतिरिक्त और सह-पाठयक्रम गतिविधियों का आयोजन, शिक्षण-अध्‍ययन सामग्री का प्रयोग, सामाजिक गतिशीलता के उपयोग के संगठन, छात्रों आदि के लिए शारीरिक शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए अनुभवात्मक अधिगम को सुनिश्चित करना, अनूठे तरीके से छात्रों को शारीरिक शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए अद्धितीय विधि आदि। इन मानदंडों को 100 में से 80 की अधिकारिता दी गई है।
और 
पुरस्कार के नागरिक: NAT-2019

Generic placeholder image
   श्री। आशुतोष आनंद - सहायक शिक्षक, उच्च प्राथमिक विद्यालय मियागंज, दरियाबाद, बाराबंकी, उत्तर प्रदेश

श्री आशुतोष आनंद विज्ञान को सरल रूप से आसान प्रयोग दवारा तथा शिक्षण सामग्री व विज्ञान खिलौने के उपयोग के माध्यम से सिखाने का प्रयास करते रहे हैं। वे एससीईआरटी टीम के सदस्य हैं जो पाठय पुस्तकें, ई-पुस्तकें और ई-सामग्री के विकास के लिए लिखते हैं। उनके लेख पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं। वे छात्रों को सामाजिक कार्य करने और सामुदायिक संपत्ति के निर्माण के लिए प्रेरित करते रहे हैं।



Generic placeholder image
  डॉ। ए। जेबिन जोएल - पोस्ट ग्रेजुएट टीचर, एटॉमिक एनर्जी सेंट्रल स्कूल ४, अनुशक्तिनगर, मुंबई (उपमंडल), महाराष्ट्र

डॉ ए जेबिन जोएल ने कई नवीन और रचनात्मक शिक्षण सहायक उपकरण विकसित किए हैं। उन्होंने भौतिकी शिक्षण अधिगम में ई- सामग्री के प्रभावी उपयोग के लिए क्यूआर कोड भी विकसित किये हैं। उन्होंने नवीन शिक्षण विधियों पर शोध पत्र प्रकाशित किए हैं। उनके दवारा विकसित ई-कंटेंट बड़ी संख्या में स्कूलों में प्रसारित किया गया है।"



Generic placeholder image
  रीता बाली - टीजीटी, तिब्बतियों के लिए केंद्रीय विद्यालय हरबर्टपुर, विकास नगर, देहरादून, उत्तराखंड

सुश्री रीता बाली ने पिछले पांच वर्षों के दौरान विज्ञान को नवीन व रोचक तकनीकों के माध्यम से आनंदमय बनाकर निरंतर 100% परिणाम प्राप्त किया है। उन्होंने श्रवण और भाषण क्षीण छात्रों के लिए एक ऐप विकसित करने के लिए छात्रों को निर्देशित किया। वे हिंदी भाषा के शिक्षण को बढ़ावा देती हैं और पर्यावरण ओलंपियाड का आयोजन भी करती हैं। उन्होंने स्कूल में एक हर्बल गार्डन विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।"

और 

© मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा सामग्री का स्वामित्व, अद्यतन और बनाए रखना|
इस वेबसाइट का विकास और संचालन राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय,
भारत सरकार द्वारा आयोजित और बनाए रखा है।